WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

P. V. Sindhu biography Tokyo Olympic Bronze Medal Winner

P. V. Sindhu biography Hindi Tokyo Olympic bronze medal, Coach, Height, Age, Caste, Boyfriend, Husband, Family, wiki & More

Tokyo Olympics 2020 में P. V. Sindhu ने जीत हाँसिल कर इतिहास रच दिया है उन्होंने Tokyo Olympics में शानदार प्रदर्शन करते हुए कांस्य पदक जीत लिया है. पी. वी. सिंधु एक भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। यह एक पहली ऐसी भारतीय महिला ख़िलाड़ी है जिन्होंने ओलंपिक में दो पदक (रजत पदक 2016-कांस्य पदक2021)जीता। यह बैडमिंटन (BWF) World Championships में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी थी. वर्तमान में दुनिया में बैडमिंटन खेल में पीवी सिंधु सातवें नंबर पर है, इस लेख में आप विश्व चैंपियन भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी P. V. Sindhu की biography के बारे में जानेंगे.

P. V. Sindhu का प्रारंभिक जीवन Birth & Family

पी. वी. सिंधु का जन्म 5 जुलाई, 1995 को हैदराबाद में हुआ. इनका पूरा नाम पुसर्ला वेंकट सिंधु है. पी. वी. सिंधु के माता- पिता राष्ट्रीय स्तर पर वॉलीबॉल खिलाड़ी थे इसीलिए शुरुआत से ही उनकी खेल के प्रति रूचि रही है। इनके पिता का नाम पी.वी. रमण और माता का नाम पी. विजया है जोकि एक वॉलीबॉल खिलाड़ी रह चुके है.सिंधु ने आठ साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था.

P. V. Sindhu का परिचय(P. V. Sindhu Biography)

P. V. Sindhu Bio/Wiki
रियल नाम (Full Name)Pusarla Venkata Sindhu
निक नाम (Nickname)P. V. Sindhu
जन्म (Date Of Birth)5 July 1995
आयु (Age)26 Year(in 2021)
जन्म स्थान (Birth Place)Hyderabad, India
पेशा (Occupation,Profession)Indian Badminton player(Right-handed)
राष्ट्रीयता (Nationality)Indian
होमटाउन (Home Town)Hyderabad, India
जाति (CASTE)Not Known
Zodiac signCancer
ReligionNot Known
कोच (Coach)पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand)
Net Worth

पी. वी. सिंधु शुरूआती ट्रेनिंग एवं कोच

बचपन से ही सिंधु के घर में खेल का माहौल रहा है. उनके माता-पिता राष्ट्रीय स्तर के वॉलीबॉल खिलाड़ी रह चुके है. लेकिन पी. वी. सिंधु ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियन पुलेला गोपीचंद से प्रेरित होकर बैडमिंटन में अपना करियर बनाने का फैसला किया।

सरकारी नौकरी/योजना ग्रुप से जुड़े !

हालाँकि,महबूब अली ने सिंधु को सिकंदराबाद में भारतीय रेलवे सिग्नल इंजीनियरिंग और दूर संचार के बैडमिंटन कोर्ट में बैडमिंटन के बारे में बेसिक्स सिखाने में मदद की. इसके बाद, यह गोपीचंद बैडमिंटन अकादमी से पी. वी. सिंधु ने पुलेला गोपीचंद से खेल में महारत हासिल करने में मदद की।

पी.वी. सिंधु बैडमिंटन प्रशिक्षण के प्रति इतनी समर्पित थीं कि वह प्रतिदिन 56 किमी की यात्रा करती थीं। इस कड़ी मेहनत और दृढ़ता ने उसे सफलता हासिल करने में मदद की है।

P.V. Sindhu Badminton Career

सिंधु ने आठ साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था। और 14 साल की छोटी उम्र में ही अंतरराष्ट्रीय स्तर खेलना शुरू कर दिया था. 2009 में उन्होंने अपने पहली अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में खेले गये बैडमिंटन चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन किया.

साल 2009

  • पी. वी. सिंधु ने 2009 में अपने करियर की शुरुआत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोलंबो, श्रीलंका में आयोजित सब-जूनियर एशियाई बैडमिंटन चैंपियनशिप में कांस्य पदक(bronze medal) जीतकर की.

साल 2010

  • एक साल बाद 2010 में , उन्होंने ईरान में फज्र इंटरनेशनल बैडमिंटन चैलेंज में एकल वर्ग में P. V. Sindhu ने रजत पदक जीता था। इसके बाद वह 2010 में ही मेक्सिको में आयोजित BWF वर्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में पहुंची लेकिन सफ़लता पाने में असफ़ल रही. और 2010 में ही थॉमस और उबर कप के दौरान P. V. Sindhu भारत की और से खेलीं. 17 साल की उम्र में ही सिंधु ने एशियाई जूनियर चैंपियनशिप जीती।
Also Read :   Joe Biden Biography in Hindi | Joe Biden Age, Family (Wife, Son), Political Career, Net Worth, wiki

साल 2011

  • जून 2011 में मालदीव इंटरनेशनल चैलेंज में जीत हांसिल की। इसी वर्ष 2011 में इंडोनेशिया इंटरनेशनल चैलेंज भी जीता। सिंधु ने साल के अंत में भारत अंतर्राष्ट्रीय बैडमिंटन प्रतियोगिता जीती। इस प्रतियोगिता में उनके प्रतिद्वंदी सयाली गोखले को हराकर विजय प्राप्त की.

साल 2012

  • 14 जून 2012 को आयोजित हुए इंडोनेशिया ओपन में सिंधु को हार का सामना करना पड़ा। 7 जुलाई 2012 में आयोजित एशियाई जूनियर चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता, यह जीत फाइनल में जापानी खिलाड़ी नोज़ोमी ओकुहारा को हराकर मिली। यह पहली बार 2012 एशियाई जूनियर चैंपियनशिप में स्पष्ट हुआ जब उसने एक साल पहले कांस्य पदक जीतने के बाद स्वर्ण पदक जीता था।
  • P. V. Sindhu ने ली निंग चाइना मास्टर्स सुपर सीरीज टूर्नामेंट में लंदन 2012 ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता ली ज़ुएरुई से विजय होकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। यह जीत भारत के लिए एक बहुत बड़ी जीत थी. हालांकि सिंधु को अगले दौर में हार का सामना करना पड़ा।

साल 2013

  • इन्होने मई 2013 में, सिंगापुर की गु जुआन को हराकर मलेशियाई ओपन खिताब जीता था। 2013 में विश्व चैंपियनशिप में भाग लिया, सिंधु ने चीनी खिलाड़ी, वांग शिक्सियन को हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया. पीवी सिंधु बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप में एकल स्पर्धा में भारत की एकमात्र दूसरी पदक विजेता बनीं। उसने 1 दिसंबर 2013 को कनाडा की ली मिशेल को हराकर मकाऊ ओपन ग्रां प्री गोल्ड का महिला एकल खिताब जीता था। वह 2013 में अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग 15 तक पहुंच गई थी।
  • 2013 में ही पीवी सिंधु को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, जो भारत में किसी भी खिलाड़ी के लिए सर्वोच्च सम्मान में से एक है।

साल 2014

  • पीवी सिंधु ने 2014 में Commonwealth Games में भाग लिया, वह महिला एकल प्रतियोगिता में सेमीफाइनल चरण में पहुंची, लेकिन वह कनाडा की मिशेल ली से हार गईं।
  • उन्होंने क्वार्टर फाइनल में एशियाई चैंपियनशिप में अपना पहला पदक जीता। 2014 BWF विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता. उन्होंने बीडब्ल्यूएफ विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में दो लगातार पदक जीतने वाली पहली भारतीय बनकर इतिहास रच दिया.

साल 2015

  • 2015 विश्व चैंपियनशिप में, पीवी सिंधु क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँची। लेकिन अपने कोरियाई प्रतिद्वंद्वी सुंग जी-ह्यून से हार का सामना करना पड़ा।
  • अक्टूबर 2015 में, डेनमार्क ओपन में सिंधु फाइनल में पहुंची। फाइनल के लिए उन्होंने ताई त्ज़ु-यिंग, वांग यिहान और कैरोलिना मारिन को हराया था। लेकिन फाइनल में, ली ज़ुएरुई से हार गईं।
  • नवंबर 2015 में, सिंधु ने मकाऊ ओपन ग्रां प्री गोल्ड में फाइनल में जापान की मिनात्सु मितानी को हराकर लगातार तीसरा महिला एकल खिताब अपने नाम किया था।

साल 2016

  • 2016 का साल पीवी सिंधु के लिए सबसे अच्छा रहा जहाँ उन्होंने 2016 के शुरुआत में ही जनवरी में, सिंधु ने मलेशिया मास्टर्स ग्रां प्री गोल्ड महिला एकल खिताब जीता।
  • 2016 में ब्राजील के रियो डि जेनेरियो में आयोजित रियो ओलंपिक में महिला एकल स्पर्धा में रजत पदक जीतकर भारत की सबसे कम उम्र की और पहली महिला एथलीट बनीं। फाइनल में सिंधु स्पेन की कैरोलिना मैरिन से हार गई। 
Also Read :   फोन को पास लेकर सोना पड़ सकता है बेहद भारी, मौत को दे सकता है जल्द बुलावा

साल 2017

  • 2017 में इंडिया ओपन सुपरसीरीज में, कैरोलिना मारिन को हराकर खिताब जीता था।
  • ​​अगस्त 2017 स्कॉटलैंड में आयोजित विश्व चैंपियनशिप में, पीवी सिंधु ने रजत पदक जीता। फाइनल में वह नोज़ोमी ओकुहारा से हार गई. यह बैडमिंटन के इतिहास में दूसरा सबसे लंबा महिला एकल मैच था, जोकि 110 मिनट तक चला था.
  • सिंधु ने 2017 में आयोजित कोरिया ओपन सुपर सीरीज़ में भाग लिया, जहाँ उन्होंने कोरिया ओपन सुपर सीरीज़ के फ़ाइनल में नोज़ोमी ओकुहारा को हराकर कोरिया ओपन जीतने वाली पहली भारतीय बनीं थी।
  • अगस्त में, उन्होंने आंध्र प्रदेश सरकार के राजस्व विभाग के तहत भूमि प्रशासन के मुख्य आयुक्त (CCLA) कार्यालय में कृष्णा जिले में डिप्टी कलेक्टर के रूप में कार्यभार संभाला गया था।

साल 2018

  • सिंधु 2018 में ऑल इंग्लैंड ओपन चैंपियनशिप में सेमीफाइनल में दुनिया की नंबर 3 की ख़िलाड़ी अकाने यामागुची से हार गई. इस हार के बाद सिंधु ने विश्व में शीर्ष 4 में जगह बनाई। माना जाता है की यह 2018 ऑल इंग्लैंड ओपन में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।
  • उसने गोल्ड कोस्ट में 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में शामिल हुई, जिसमे उन्होंने मिश्रित टीम स्पर्धा में स्वर्ण पदक और एकल स्पर्धा में रजत पदक जितने में सफल रही।
  • सिंधु ने साल के अंत में 16 दिसंबर 2018 को, चीन के ग्वांगझू में आयोजित सीजन-एंडिंग बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर फाइनल टूर्नामेंट जीतने वाली पहली भारतीय बनकर इतिहास रच दिया था। फाइनल में नोज़ोमी ओकुहारा को हराया था.

साल 2019

  • सिंधु को पीबीएल नीलामी में हैदराबाद हंटर्स द्वारा खरीदा गया था और उन्हें उनके कप्तान के रूप में नामित किया गया था। लेकिन उन्हें सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा।
  • वह इंडोनेशिया ओपन में सीज़न के अपने पहले फ़ाइनल में पहुँची, जहाँ वह जापान की अकाने यामागुची से हार गई।

P V Sindhu Tokyo Olympic 2021

Tokyo Olympics 2020 में पीवी सिंधु ने जीत हाँसिल कर इतिहास रच दिया है उन्होंने Tokyo Olympics में शानदार प्रदर्शन करते हुए कांस्य पदक जीत लिया है. यह एक ऐसी पहली महिला ऐथलीट है जिन्होंने ओलिंपिक में दो मेडल जीते है. उन्होंने 2016 में ब्राजील के रियो डि जेनेरियो में आयोजित रियो ओलंपिक में महिला एकल स्पर्धा में रजत पदक जीता था और हालही में 2021 में Tokyo Olympics 2020 में कांस्य पदक अपने नाम किया है. यह कांस्य पदक चीन की बिंग जियाओ को हराकर जीता है। लेकिन उन्हें सेमीफाइनल में ताई जू यिंग से हार का सामना करना पड़ा.

Tokyo Olympics 2020 में अबतक भारत की झोली में 2 मैडल आ चुके है. भारत के लिए पहला मैडल वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू ने सिल्वर मेडल जीता था इसके बाद पीवी सिंधु ने कांस्य पदक जीत लिया है.पीवी सिंधु ने इस साल टोक्यो ओलंपिक में शानदार प्रदर्शन किया है।

PV Sindhu: Awards & Achievements

National Awards

  • 4 सितंबर 2013 में पीवी सिंधु को खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।
  • 2 मार्च 2015 को सिंधु को पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।
  • 3 अगस्त 2016 को उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया था।
  • जनवरी 2020 में, पीवी सिंधु को भारत में सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार- पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

Other Awards

  • फिक्की, ब्रेकथ्रू स्पोर्ट्सपर्सन ऑफ द ईयर 2014 का खिताब दिया गया।
  • 2014 में NDTV इंडियन ऑफ़ द ईयर का खिताब दिया।
  • उन्हें बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया के द्वारा 2015 मकाऊ ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप में जीत के लिए 14,000 अमेरिकी डॉलर का पुरुस्कार ईनाम मिला।
  • इसके बाद दुबारा बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने 7,000 अमेरिकी डॉलर की राशि मिली यह राशि उन्हें 2016 मलेशिया मास्टर्स में जीत के लिए दी गई थी.
  • उन्हें बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान से US$1,400 मिले।
Also Read :   Royal Enfield Scram 411 Price - Specs, Mileage, Images, Colours, Bike Price in India

पी. वी. सिंधु education

पी वी सिंधु ने हैदराबाद से ही अपनी पढ़ाई पूरी की है। वह अपनी प्रारंभिक और हाई स्कूल की पढ़ाई Auxilium High School, Secunderabad से की। इसके बाद में, वह St. Ann’s College for Women, Mehdipatnam कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की।

Education Details and More
SchoolAuxilium High School, Secunderabad
CollegeSt. Ann’s College for Women, Mehdipatnam
Educational QualificationMBA

P. V. Sindhu Family

पी.वी. सिंधु के पिता का नाम पी.वी. रमना है और माता का नाम पी. विजया है सिंधु के माता-पिता दोनों ही राष्ट्रीय स्तर के वॉलीबॉल खिलाड़ी रह चुके है। पी.वी. सिंधु को बचपन से ही उनके माता पिता उन्हें खेलों में अपना करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित किया करते थे। उनके पिता पीवी रमना ने 1986 के सियोल एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था। खेलों में उनके योगदान के लिए पीवी रमना को वर्ष 2000 में अर्जुन पुरस्कार मिला।

उनकी एक बड़ी बहन है जिसका नाम दिव्या है। दिव्या डॉक्टर हैं लेकिन नेशनल लेवल पर हैंडबॉल खेल चुकी हैं। बाद में उन्होंने यूएस बेस्ड सॉफ्टवेयर इंजीनियर अनुराग कुमार से शादी कर ली।

FatherP. V. Ramana
MotherP. Vijaya
SisterDivyaram Pusarla (elder)
BrotherN/A

Personal Life

Relationship, Affairs, boyfriends  & More
Marital StatusUnmarried
Affairs/BoyfriendsNot Known
HusbandN/A

Physical Stats and More

Heightin centimeters- 179 cm
in meters- 1.79 m
in Feet Inches- 5′ 10 1⁄2″
Weight (approx.)in Kilograms- 65 Kg
in Pounds- 150 lbs
Figure Measurements34-26-36
Eye ColourBlack
Hair ColourBlack

PV Sindhu Net Worth

पीवी सिंधु की 2021 की कुल संपत्ति का अनुमान 72 करोड़ रुपये लगायी जा रही है। साल 2018 और 2019 में पीवी सिंधु को फोर्ब्स की सबसे अधिक भुगतान पाने वाली महिला एथलीटों की सूची में शामिल किया गया था। 2016 में रियो ओलंपिक में रजत पदक जितने के बाद उस साल उनकी कुल कमाई में लगभग 17 गुना तक की बढ़ोतरी हुई थी. फोर्ब्स पत्रिका के अनुसार, 2018 और 2019 में पीवी सिंधु की कुल संपत्ति क्रमशः 8.5 मिलियन डॉलर और 5.5 मिलियन डॉलर थी. रियो ओलिंपिक के बाद इतने सारे ब्रांड एंडोर्समेंट के लिए पीवी सिंधु की कमाई में बड़ी भूमिका निभाई।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, ब्रांड एंडोर्समेंट के मामले में पीवी सिंधु भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली के बाद दूसरी स्पोर्ट्सपर्सन हैं। वह एक दिन के लिए US$140,000 – US$180,000 के बीच के ब्रांडों के विज्ञापन करने का शुल्क लेती है। उसने मिंत्रा, फ्लिपकार्ट, नोकिया, स्टेफ्री, पैनासोनिक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, विजाग स्टील, जेबीएल, आदि जैसे कई ब्रांडों विज्ञापन करती हैं।

Some Lesser Known Facts About P. V. Sindhu

  • सिंधु बचपन में डॉक्टर बनना चाहती थीं।
  • सिंधु की बड़ी बहन, दिव्याराम पुसरला, राष्ट्रीय स्तर की हैंडबॉल खिलाड़ी थीं, जो बाद में डॉक्टर बन गईं।
  • PV Sindhu ने बचपन में ही करीब 8 साल की उम्र में ही बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था।
  • सिंधु सचिन तेंदुलकर को अपना रोल मॉडल और अपने कोच पुलेला गोपीचंद को प्रेरणा मानती हैं।
  • सिंधु के माता-पिता पी.वी. रमना और पी. विजया दोनों राष्ट्रीय स्तर के वॉलीबॉल खिलाड़ी रहे हैं। पी.वी. रमना को वर्ष 2000 में अर्जुन पुरस्कार भी मिला।
  • कई पोपुलर magazines ने PV Sindhu को कवर पेज पर फीचर किया है जैसे ग्राज़िया, जेएफडब्ल्यू और ईएलईई ETC.
pv sindhu magazines
  • सिंधु को संगीत सुनना या फिल्में देखना पसंद है।

FAQ

Q : पीवी सिन्धु कौन है ?

Ans : यह एक भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी है.

Q : पीवी सिन्धु net worth क्या है?

Ans :

Q : पीवी सिन्धु का पूरा नाम क्या है ?

Ans : इनका पूरा नाम पुसर्ला वेंकट सिंधु है.

Q : पीवी सिन्धु की age कितनी है ?

Ans : 26 Year(in 2021)

Q : पीवी सिन्धु का जन्म कब हुआ ?

Ans : 5 जुलाई 1995 को

Q : पीवी सिन्धु के राष्ट्रीय कोच कौन है ?

Ans : पुल्लेला गोपीचंद

Leave a Comment