खबरें व्हाट्सप्प पर पाने के लिए,अभी जॉइन करें व्हाट्सप्प ग्रुप
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

बीजेपी सरकार ने बंद की कांग्रेस सरकार की यह योजना, 31 दिसंबर से नहीं मिलेगा योजना का लाभ, जानिए

राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है. ऐसे में राजस्थान राज्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भजन लाल शर्मा को राजस्थान का नया मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया. राजस्थान के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने मुख्यमंत्री पद संभालते ही पिछले कांग्रेस सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं पर एक्शन चालू कर दिया है. राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने पिछली अशोक गहलोत सरकार द्वारा चलाई गई एक योजना को हाल ही में बंद करने का आदेश जारी कर दिया है. गहलोत सरकार द्वारा चलाई जा रही यह योजना 31 दिसंबर से समाप्त हो जाएगी.

सीएम भजनलाल ने बंद की कांग्रेस सरकार की यह योजना

आपको बता दे की राजस्थान की नई भजन लाल सरकार ने पिछले गहलोत सरकार द्वारा 2021-22 में शुरू की गई राजीव गांधी युवा मित्र इंटर्नशिप योजना को बंद करने के आदेश जारी कर दी है. गहलोत सरकार द्वारा चलाई गई Rajiv Gandhi Yuva Mitra Internship Program को 31 दिसंबर 2023 से बंद कर दिया जाएगा.

क्या है राजीव गांधी इंटर्नशिप स्कीम, जो अब बंद हो गयी

पिछली गहलोत सरकार द्वारा शुरू की गई राजीव गांधी युवा मित्र इंटर्नशिप कार्यक्रम के तहत युवाओं को सरकार के अलग-अलग विभागों की ओर से छह महीने से लेकर 2 साल तक इंटर्नशिप कराई जाती थी. इस इंटर्नशिप के बाद युवाओं को सरकारी योजनाओं का सोशल मीडिया पर प्रचार प्रसार की जिम्मेदारी दी जाती थी. इसके अलावा योजना में शामिल होने वाले युवा घर-घर जाकर लोगों का सर्वे करना तथा सरकार की योजनाओं की जानकारी देना तथा योजना में नाम जुड़वाना, कार्ड बनवाने जैसे काम किए जाते थे. इस दौरान सरकार द्वारा युवाओं को ₹10,000 प्रति महीने की तनख्वाह दी जाती थी. लेकिन भजनलाल सरकार द्वारा इस योजना को बंद करने का ऐलान कर दिया गया है.

Read Also – 

अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी सरकार द्वारा राजीव गांधी युवा मित्र इंटर्नशिप कार्यक्रम को बंद करने पर ट्विटर पर पोस्ट कर प्रतिक्रिया दी है, उन्होंने लिखा है की- राजीव गांधी युवा मित्र इंटर्नशिप कार्यक्रम में सरकार की योजनाओं को घर-घर तक पहुंचाने के लिए कार्य कर रहे करीब 5,000 युवाओं की सेवाएं समाप्त करना उचित नहीं है। ये युवा सरकार की योजनाओं के बारे में जागरुक हैं एवं सरकार की काफी मदद कर रहे हैं। नई सरकार को इस योजना के नाम से परेशानी थी तो राजीव गांधी सेवा केन्द्रों की भांति नाम बदलकर अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर कर सकती थी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इसके अलावा उन्होंने कहा की- जबकि प्रदेशवासी जानते हैं कि पिछले कार्यकाल में BJP सरकार द्वारा अस्थायी तौर पर लगाए गए पंचायत सहायकों को हमारी सरकार ने स्थायी कर उनका वेतन बढ़ाया था। ऐसी ही सकारात्मक सोच से नई सरकार को भी राजीव गांधी युवा मित्र इंटर्नशिप कार्यक्रम को जारी रखना चाहिए। 

कांग्रेस नेता गोविंद सिंह डोटासरा की प्रतिक्रिया

राजस्थान की भाजपा सरकार ने नए साल से पहले हज़ारों राजीव गांधी युवा मित्रों का इंटर्नशिप कार्यक्रम समाप्त कर उन्हें बेरोजगारी का गिफ्ट दिया है। अगर भाजपा की राजनीतिक दुर्भावना सिर्फ नाम से थी, तो वो नाम बदल देते लेकिन युवाओं को बेरोजगार क्यों किया? जबकि पिछली भाजपा सरकार में पंचायत सहायकों की नियुक्ति हुई थी, हमारी सरकार आने पर उनका मानदेय बढ़ाकर उन्हें स्थाई करने के प्रावधान का प्रयास किया गया। भाजपा और कांग्रेस की नीति में यही फर्क है।

Leave a Comment